24 Hours Availability
rajnikantduey32000@gmail.com
+91 - 8004587000

रजनी कान्त दुबे

राजनीतिज्ञ

BLOG

सरकारें या पुलिस दोनों में दोषी कौन ?

///
Comment0
/
Categories
##सरकारें या पुलिस दोनों में दोषी कौन ?## जब पुलिस को किसी भी अपराध की सूचना किसी भी व्यक्ति से लिखित या मौखिक या किसी भी माध्यम से मिलती हैं,तो पुलिस का दायित्व हैं कि वह सर्वप्रथम प्राप्त अपराध के सूचना 154 द•प्र•स•के तहद प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करें, फिर मामले की जांच करें। उसके बाद पुलिस मामले में अग्रिम कार्यवाही करें।लेकिन वास्तविकता में पुलिस ऐसा नहीं करतीं हैं। यहाँ तक की यदि कोई व्यक्ति पुलिस के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को डाक से रिपोर्ट दर्ज करने की देने पर भी पीड़ित की रिपोर्ट नहीं लिखतीं हैं और जब पीड़ित व्यक्ति 156(3) द्र•प्र•स•के अधीन माननीय न्यायालय में प्रार्थना प्रत्र प्रस्तुत करता हैं तो माननीय न्यायालय पुलिस से आख्या मांगती हैं जिसका अभिप्राय केवल इतना होता हैं कि पुलिस यह बताये की मामले की रिपोर्ट दर्ज हैं या नहीं। पुलिस फिर ज्यादातर मामले की पूरी जांच कर माननीय न्यायालय को प्रेषित कर देतीं हैं।जब कि पुलिस को कानून की किसी भी धारा में यह अधिकार प्राप्त नहीं हैं। कि वह बिना रिपोर्ट लिखे किसी मामले की जांच करें।जब कि पुलिस के दोनों कार्य अपराध की श्रेणी में आते हैं।यह मूल वजह हैं अपराध और भ्रष्टाचार बढ़ने की।ऐसा पुलिस मात्र इसलिए करतीं हैं...
Read More →

यमुना एक्सप्रेस वे मार्ग

///
Comment0
/
Categories
यमुना एक्सप्रेस वे मार्ग पर हुई हृदय विदारक सड़क दुर्घटना हृदय विदारक दुर्घटना मैं गहरा दुख व्यक्त करता हूॅऔर सरकार से मांग करता हूँ सरकार कि दुर्घटना में दिवंगत जनों के परिजन को 50-50लाख रुपयेकाआर्थिक सहयोग और दिवंगत जनों के परिजन के आश्रित को सरकार सरकारी नौकरी प्रदान करें।

आलमबाग थाना कृष्ण नगर

///
Comment0
/
Categories
लखनऊ उत्तर प्रदेश के कैन्ट विधानसभा क्षेत्र का विकास जहां प्रशासन यहां दावा करता है कि हर गली हर सडक पर सीवर लाइन डाली जा चुकी है परन्तु आलमबाग थाना कृष्ण नगर की बहुत सी गलियां ऐसी है।जहां पर अभी भी सीवर लाइन नही डाली गई है क्षेत्रवासियों का कहना है कि कोई भी प्रशासन का आला अधिकारी यहां देखने नही आता। जिनमें ओम नगर,कैलाश पुरी,कच्ची बस्ती,प्रेम नगर,विशेश्वर नगर,गीतापल्ली,आजाद नगर ,हुसैनगंज आदि और यहां तक की घरो के अंदर तक पानी भर जाता हैं।जब कि कागजों पर पूरे लखनऊ में सीवर लाईन और नालियाँ बन चुकी हैं।